Home   I   About Us   I   Contact   I   FAQ's   I   Member Article
Read Jyotish Manthan
Home Political Forecast
Political Forecast Posted On: 30-04-2014
 

भविष्यवाणियाँ 2014- भारत

राजनैतिक हस्तियों का भाग्य-2014
नरेन्द्र मोदी-
नरेन्द्र मोदी का जन्म नक्षत्र अनुराधा है। जब कि राहुल गांधी का जन्म नक्षत्र ज्येष्ठा है। इसके अलावा दोनों की महादशा चन्द्रमा है परन्तु जिस मंगल के कारण नीच भंग राजयोग बन रहा है वह राहुल गांधी की जन्म पत्रिका में अस्त हैं। चुनाव के समय शनिदेव वक्री चल रहे हैं जो कि राहुल गांधी की जन्म पत्रिका को समर्थन नहीं देंगे। भारतीय जनता पाटी की कुण्डली में भी चन्द्रमा नीच राशि में हंै। भारतीय जनता पार्टी की स्वयं की जन्म पत्रिका में चन्द्रमा ज्येष्ठा नक्षत्र में हंै और नरेन्द्र मोदी की जन्म तारा भारतीय जनता पार्टी की जन्म तारा से सम्पत तारा है अत: पार्टी का पूर्ण लाभ नरेन्द्र मोदी को मिलेगा। चन्द्रमा का नीच भंग राजयोग होने के कारण चन्द्रमा की महादशा में बीजेपी को राजयोग मिला था। इस समय बीजेपी को सूर्य की महादशा चल रही है। जिसका षड्बल बीजेपी की कुण्डली में सर्वाधिक है। यद्यपि अन्तर्दशा नाथ राहु हैं परन्तु चुनाव के समय या तो शनि प्रत्यंतर रहेगा, जो बीजेपी के लिए लाभदायक है परन्तु मई के अन्तिम माह में बुध का प्रत्यंतर रहेगा, जो बीजेपी के लिए शुभ संकेत नहीं है परन्तु ठीक इसी समय नरेन्द्र मोदी भी चन्द्रमा में राहु की अंतरदशा में रहेंगे। मीन राशि स्थित राहु पंचम भाव में हैं जिस पर अप्रैल के बाद से बृहस्पति का गोचरीय प्रभाव आ जाएगा और 15 अप्रैल से 16 जुलाई के बीच में उनको शुक्र प्रत्यंतर रहेगा जो कि चतुर्थेश शनि के साथ दशम भाव में स्थित हैं। जन्म लगA से और चन्द्र लगA से चतुर्थ में बृहस्पति और दशम भाव में शुक्र की स्थिति उच्चा कोटि का राजयोग है जो कि नरेन्द्र मोदी को प्रभावी भूमिका निभाने में मदद करेगा। नरेन्द्र मोदी की जन्म कुण्डली भारतीय जनता पार्टी की कुण्डली की अपेक्षा निश्चित रूप से भारी है जिसके कारण बीजेपी को भी नरेन्द्र मोदी की जन्म पत्रिका का लाभ मिलेगा। मई मध्य में नरेन्द्र मोदी की लगA से द्वादश में राहु-शनि की उपस्थिति और छठे भाव में केतु की उपस्थिति उन्हें काफी मदद कराने वाली है। अष्टम भाव में स्थित बृहस्पति उन्हें अपार लोकप्रियता दिलाने वाले हंै। परन्तु ठीक मई मध्य के बाद लगA से सप्तम में सूर्य की उपस्थिति के कारण छोटी पार्टियों को अपने साथ लेने में उन्हें पसीना आ जाएगा। नरेन्द्र मोदी को चाहिए कि जितनी भी राजनैतिक संधियां करें वे 10 मई से पूर्व ही कर लें। अन्यथा 15 मई के बाद कुछ लोग लालच के कारण उनसे दूर जा सकते हैं और विरोधियों से संधि कर सकते हैं। लोकसभा चुनाव 2014 में नरेन्द्र मोदी देश के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता उभरेंगे परन्तु संसद में दावा प्रस्तुत करने के लिए उन्हें भारी कलाबाजियां खानी पडे़ंगी।

श्रीमती सोनिया गांधी - श्रीमती सोनिया गाँधी की जन्म पत्रिका कर्क लगA की है और इस समय केतु में शुक्र अन्तर्दशा में चल रही है। 6 जून से ही उनको केतु महादशा मे सूर्य अन्तर्दशा लगेगी। उनकी जन्म पत्रिका में सूर्य सबसे कमजोर ग्रह हैं और द्वितीयेश होकर पंचम भाव में बैठे हैं। केतु और सूर्य में केवल छ: अंशों का अंतर है जिसके कारण उन्हें अब तक प्रत्यक्ष राजयोग से वंचित रहना प़डा और अब द्वितीयेश सूर्य मारक होने के कारण उन्हें पुन: राजयोग से वंचित रखेंगे। अत: उनके बारे में यह भविष्यवाणी की जा रही है कि वे प्रधानमंत्री नहीं बन पाएंगी तथा मारकेश सूर्य की अन्तर्दशा में जो कि जून-2014 से अक्टूबर 2014 तक रहेगी, उन्हें शारीरिक कष्ट झेलने प़डेंगे। उन्हें ब़डी मात्रा में महामृत्युंजय जप कराने की सलाह दी जाती है। श्रीमती सोनिया गांधी की वर्षलगA जो कि 10 दिसम्बर, 2013 से प्रारम्भ होती है कन्या लग्न की है और मुंथा कुंभ राशि में है, जो कि वर्ष लगA के छठे भाव में है और चन्द्रमा से युक्त है और जन्म लगA से अष्टम भाव में है। जब जन्म लगA से अष्टम के स्वामी शनि राहु से युति हैं और जब चुनाव चल रहे होंगे उस समय शनि और राहु दोनों ही तुला राशि में रहेंगे तथा मंगल कन्या में रहते हुए 20 मई तक वक्री हैं। यदि इससे पूर्व चुनाव हुए तो उन्हें निश्चित हानि होगी तथा उनके स्वास्थ्य की ओर से तो निश्चित रूप से शुभ संकेत नहीं हंै।
 राहुल गांधी -
राहुल गांधी की मिथुन लगA की कुण्डली है और इस समय वे चन्द्रमा की महादशा में बुध की अन्तर्दशा में चल रहे हैं। बुध की अन्तर्दशा 27 जून , 2014 तक है और चुनावों के समय यदि चुनाव 6 अप्रैल के बाद होते हैं तो वे चन्द्रमा में, बुध में, शनि अन्तर्दशा की अन्र्तगत रहेंगे। राहुल गांधी की कुण्डली में चन्द्रमा और शनि दोनों ही नीच राशि में हैं और इन दोनों का नीच भंग राजयोग मंगल के कारण बनता है परन्तु मूल जन्मपत्रिका में मंगल अस्त हैं। उनकी दशांश कुण्डली जो कि कन्या लगA की है में भी मंगल अष्टमेश होकर दशम भाव को देख रहे हैं जो कि शुभ लक्षण नहीं है। यद्यपि बुध अन्तर्दशा राहुल गांधी को लोकप्रियता दिलाएगी परन्तु राजयोग दिलाने में सक्षम नहीं है। राहुल गांधी की दशांश कुण्डली में दशमेश बुध हैं और अच्छी स्थिति में हैं। जन्म नक्षत्र के स्वामी की अन्तर्दशा भी है इसलिए बुध अंतर्दशा में राहुल गांधी की जन्म पत्रिका में कांग्रेस को लाभ मिलेगा और चुनाव समय में उनका कोई न कोई कौशल सामने आकर कांग्रेस को लाभ दिला जायेगा। राहुल गांधी को असली लाभ उनकी शुक्र अन्तर्दशा में मिलेगा जो कि जनवरी, 2015 से शुरू होगी। अभी तो कांग्रेस की ठीक-ठीक सीटें आने के बाद भी उन्हें समर्थन पाने के लिए समर्पण की मुद्रा में आ जाना पडे़गा।
लाल कृष्ण आडवाणी -
लालकृष्ण आडवाणी जन्म लगA वृश्चिक है और वर्तमान में उन्हें शनि महादशा में बुध अन्तर्दशा चल रही है। लगA स्थित शनि दशम भाव स्थित सिंह राशि को देख रहे हैं जो कि शनि की शत्रु राशि है। दशमेश सूर्य नीच राशि में स्थित हैं जो कि इस कुण्डली के सबसे कमजोर ग्रह हैं। वर्तमान अन्तर्दशानाथ बुध की अन्तर दशा 30 मई 2014 तक हैं और उसी अवधि में लोक सभा चुनाव हो जाने वाले हैं। इसके पpात उनको शनि में केतु अन्तर्दशा जुलाई 2015 तक रहेगी जिसमें उन्हें कुछ राहत मिल सकती है परन्तु उसके बाद सूर्य की अन्तर्दशा है जो कि पुन: अशुभ है। अत: श्री लालकृष्ण आडवाणी का समय कठिन चल रहा है। उन्हें जीवन की सर्वश्रेष्ठ उपलब्धि शनि महादशा में चन्द्रमा की अन्तर्दशा में हो सकती है, जो कि अगस्त 2019 से मार्च 2021 के बीच रहेगी परन्तु गोचरीय प्रभाव उन्हें कर्क के बृहस्पति में आंशिक लाभ दिला सकते हैं जो कि मार्च-अप्रैल 2014 के बाद प्रभावी रहेंगे।
 डॉ. मनमोहन सिंह -
डॉ. मनमोहन सिंह की कुण्डली धनु लगA की है और उनको वर्तमान में राहु महादशा में मंगल अन्तर्दशा चल रही है। मंगल नीच राशि में होकर अष्टम भाव में स्थित हैं । मंगल का षड्बल अच्छा है और पंचमेश मंगल की अन्तर्दशा 7 अगस्त 2014 तक है। उन पर सबसे अधिक आक्षेप राहु में चन्द्रमा की अन्तर्दशा में आए हैं। यह एक अद्भुत कुण्डली है जिसमें छठे, आठवें और बारहवें भाव के स्वामी अष्टम भाव में ही स्थित हैं और उच्चा कोटि का राजयोग सृजित कर रहे हैं। 7 अगस्त 2014 के बाद इनको लगAेश और चतुर्थेश बृहस्पति की महादशा शुरू हो रही है परन्तु लोकसभा के चुनाव तो मई से पूर्व ही हो जाने हैं। समाप्त होती हुई मंगल अन्तर्दशा इतने शानदार फल देने में सक्षम नहीं है। मुंथा भी अब इतनी अनुकूल नहीं है। श्री मनमोहन सिंह पर राहु की महादशा 1996 से शुरू हुई है और 2014 तक चलेगी। डॉ. मनमोहन सिंह की कुण्डली में मूल त्रिकोण में स्थित राहु को पंचमेश मंगल और लगAेश चतुर्थेश बृहस्पति दृष्टिपात कर रहे हैं जो कि प्रथम श्रेणी का राजयोग बनाते हैं। दशमेश बुध के साथ नवमेश सूर्य बैठे हैं जो स्वयं एक स्वतंत्र राजयोग है। इनकी चन्द्र कुण्डली भी अति बलवान है परन्तु वर्तमान में लोकसभा चुनाव के समय वक्री शनि से दृष्ट होने के कारण अपना पूर्ण फल नहीं दे पाएंगे। छिद्र अन्तर्दशा में डॉ. मनमोहन सिंह का राजयोग कमजोर होता हुआ प्रतीत हो रहा है।
राजनाथ सिंह-
श्री राजनाथ सिंह की जन्म कुण्डली वृश्चिक लगA की है और आpर्यजनक रूप से भारतीय जनता पार्टी और नरेन्द्र मोदी की तरह उनकी कुण्डली में भी चन्द्रमा नीच राशि में हैं और नीचभंग राजयोग है। यह नीचभंग राजयोग शनि के कारण बन रहा है। इस समय उनको राहु महादशा में बुध की अन्तर्दशा चल रही है। यह जुलाई 2015 तक है। अष्टमेश होने के कारण यह उच्चा कोटि के राजयोग में बाधक है। श्री राजनाथ सिंह को राहु महादशा 2005 से प्रारम्भ हुई है और 2018 तक रहेगी। लगAाधिपति मंगल के द्वारा राहु दृष्ट है इसीलिए अनुकूल परिणाम दे रहे हैं। श्री राजनाथ सिंह के सूर्य का षड्बल भी बहुत कम है जिसकी पूर्ति किए बिना उच्चा कोटि का राजयोग मिलने में बाधा बनी रहेगी।

 
Astrology Karma Kanda
Vastu Remedial Astrology
Feng-Shui Astronomy
Palmistry Spiritualism
Prashna Shastra Ayurveda
Jyotish Bodh
Pages : 368
Price : 275
 
Home I  About Us I  Contact I  FAQ's I  Member Article
Political I  Financial I  Sports I  Films I  Monthly Forecast
Astrology I  Karma Kanda I  Vastu I  Remedial Astrology I  Feng-Shui I  Astronomy I  Palmistry I  Spiritualism I  Prashna Shastra I  Ayurveda
Exclusive for Month I  Celebrity Analysis I  Current Event
  © 2008 Jyotish Manthan. All rights reserved
www.pixelmultitoons.com  |  Privacy Policy  |  Legal Disclaimer